Tuesday , May 21 2019
Loading...
Breaking News

भारतीय फुटबॉल (AIFF) ने हिंदुस्तान की पुरुष टीम का मुख्य कोच किया नियुक्त

क्रोएशिया के पूर्व खिलाड़ी इगोर स्टीमाक को बुधवार को यहां अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (AIFF) ने हिंदुस्तान की पुरुष टीम का मुख्य कोच नियुक्त किया। उन्हें दो वर्ष का अनुबंध प्रदान किया है। स्टीमाक को कोचिंग समेत क्रोएशिया व इंटरनेशन लेवल पर फुटबॉल एवं खिलाड़ियों को विकसित करने में 18 सालों से अधिक का अनुभव है।

एक कोच के रूप में स्टीमाक की सबसे बड़ी उपलब्धि क्रोएशिया को 2014 फीफा दुनिया कप के लिए क्वालीफाई कराना है। राष्ट्रीय टीम के कोच के रूप में उन्होंने मैटयो कोवाचिक, एंटे रेबिक, एलेन हलीलोविक व इवान पेरेसिक समेत कई खिलाड़ियों को उनका पहला मैच खेलने का मौका दिया। उन्होंने डारियो सर्ना, डेनियल सबासिक, इवान स्ट्रीनिक, कोविचिक, पेरेसिक को बेहतर खिलाड़ी बनाने में अहम किरदार निभाई। एक खिलाड़ी के रूप में स्टीमाक क्रोएशिया की उस टीम का भाग थे जो 1998 दुनिया कप में तीसरे पायदान पर रही थी।

एआईएफएफ के अध्यक्ष प्रफुल्ल पटेल ने कहा, “ब्लू टाइगर्स का कोच बनने के लिए इगोर ठीक उम्मीदवार हैं। मैं उनका स्वागत करता हूं। भारतीय फुटबॉल परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है व मुझे विश्वास है कि उनका अनुभव हमें आगे ले जाएगा।

इस वर्ष की आरंभ में एएफसी एशियन कप के बाद स्टीफन कांस्टेनटाइन के त्याग पत्र देने के बाद से एआईएफएफ ने करीब 250 नामों पर विचार किया। एआईएफएफ की तकनीकी समिति ने चार उम्मदीवारों को चुना व उन्हें इंटरव्यू के लिए बुलाया। स्टीमाक के अतिरिक्त स्पेन के एल्बर्ट रोका, स्वीडन के हकान एरिकसन व दक्षिण कोरिया के ली मिन सुंग का इंटरव्यू लिया गया।

इसके बाद, श्याम थापा की अध्यक्षता वाली तकनीकी समिति ने स्टीमाक के नाम को मंजूरी के लिए कार्यकारी समिति के पास भेजा।

महासंघ के महासचिव कुशल दास ने कहा, “इगोर स्टीमाक के आने से हिंदुस्तान फुटबॉल को बहुत फायदा मिलेगा। एक कोच के रूप में उनकी साख व एक खिलाड़ी के रूप में उनका अनुभव खिलाड़ियों व भारतीय फुटबॉल के इको सिस्टम को व बेहतर करेगा। हमें अभी तक जो गति प्राप्त हुई है उसे बनाए रखना होगा। ”

थापा ने कहा, “स्टीमाक के नाम पर तकनीकी समिति के सभी मेम्बर राजी हुए थे। तकनीकी निदेशक इसाक डोरू उनसे बहुत प्रभावित थे व वह निश्चित थे कि स्टीमाक इस कार्य के लिए सबसे अच्छे उम्मीदवार हैं। वह दुनिया कप में खेल चुके हैं व एक कोच के रूप में भी क्रोएशिया को दुनिया कप तक पहुंचाया है। उन्होंने बोला कि इससे बेहतर उम्मीदवार कौन होने कि सम्भावना है। वह इस बात से भी बहुत ज्यादा प्रभावित हुए कि स्टीमाक भारतीय फुटबॉल बहुत अच्छी रिसर्च करके आए थे। ”

स्टीमाक के मार्गदर्शन में पांच जून से थाईलैंड में प्रारम्भ होने वाले किंग्स कप में पहली बार भारतीय टीम खेलेगी।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *