Tuesday , May 21 2019
Loading...
Breaking News

अमेरिका व ईरान के बीच परमाणु समझौते को लेकर तनाव

अमेरिका  ईरान के बीच परमाणु समझौते को लेकर तनाव चरम पर है. ट्रम्प प्रशासन ने ईरान की परमाणु परीक्षण की धमकियों के बाद मध्यपूर्व में अपना नौसैना आक्रमण दल तैनात कर दिया है. हाल ही में समाचार आई थी कि ईरान पर दबाव बनाने के लिए अमेरिका मध्यपूर्व में 1 लाख 20 हजार सैनिकों का बेड़ा भेज सकता है. हालांकि, ट्रम्प प्रशासन ने ऐसी किसी भी आसार से मना किया है. वहीं ईरान ने भी अमेरिका के विरूद्ध आक्रामक रवैया अपनाने की बात नकारी है.

अमेरिका अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स ने सरकार में अफसरों के हवाले से दावा किया था कि ट्रम्प मध्यपूर्व में सेना को  ज्यादा बल देना चाहते हैं. लेकिन ट्रम्प ने इसे फेक न्यूज बताया है.उन्होंने बोला कि हमारी ऐसी कोई योजना नहीं है  अगर कभी इसकी आसार बनी तो हम इससे ज्यादा शक्तिशाली सेना भेजेंगे.

दूसरी तरफ ईरान के सुप्रीम लीडर अयातुल्ला अली खमनेई ने मंगलवार को बोला कि अमेरिका के साथ कोई युद्ध नहीं होगा. रिपोर्ट्स में बोला गया था कि ईरान अमेरिका का सामना करने के लिए आक्रामक रवैया अपना सकता है. लेकिन खमनेई ने बोला कि न तो ईरान  न ही अमेरिका ऐसा कोई युद्ध चाहता है. हांलाकि, उन्होंने ट्रम्प प्रशासन के साथ समझौता न करने की बात कही. उन्होंने बोला कि यह देश के लिए जहर होने कि सम्भावना है, क्योंकि अमेरिका उनके सारे मिसाइल  तकनीक लेना चाहता है.

पाकिस्तान ने कहा- हम स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं
इसी बीच पाक ने बोला कि वह अमेरिका  ईरान के बीच स्थिति पर लगातार नजर बनाए हुए है. पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने बोला कि हम जल्द ही ऐसी योजना बनाएंगे जिससे पाकिस्तान के हितों को नुकसान न पहुंचे. दरअसल, पाकिस्तान ईरान के साथ गैस पाइपलाइन के निर्माण में जुटा है. लेकिन अमेरिका के प्रतिबंधों की वजह से उसका प्रोजेक्ट बीच में ही अटक गया है. इसी को लेकर पाक ईरान के साथ वार्ता की कोशिशों में जुटा है.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *