Saturday , April 20 2019
Loading...
Breaking News

चुनाव अभियान में रूस के साथ साज़िश अथवा नापाक संबंधों की पुष्टि नहीं हाे सकी ट्रम्प

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साल 2016 के राष्ट्रपति चुनाव अभियान में रूस के साथ साज़िश अथवा नापाक संबंधों की पुष्टि नहीं हाे सकी. यह बात रविवार को विशेष अधिवक्ता राबर्ट म्यूलर की रिपोर्ट से उजागर हुई है. अटार्नी जनरल विलियम बर्र ने रविवार को चार पन्नों की एक संक्षित रिपोर्ट कांग्रेस के विचारार्थ प्रेषित कर दी. इस रिपोर्ट में इस बात का भी उल्लेख नहीं है कि ट्रम्प ने अनधिकृत रूप से न्यायिक विभाग को अपना नाम नहीं घसीटे जाने के लिए कोई दबाव बनाया.

इस पर राष्ट्रपति ट्रम्प ने ट्वीट कर कहा है, ‘कोई साज़िश नहीं, कोई व्यवधान नहीं.’ विलियम बर्र ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि विशेष अधिवक्ता राबर्ट म्यूलर ने अपनी रिपोर्ट में किसी भी अमेरिकी नागरिक अथवा ट्रम्प के चुनाव प्रचार अभियान से जुड़े किसी भी अधिकारी का रूस के किसी भी अधिकारी से संबंध की पुुुुष्टि नहीं की है. विदित हो कि राष्ट्रपति चुनाव साल 2016 में ट्रम्प और रूस के सहायकों के बीच सांठगांठ और उन्हें लाभ पहुंचाए जाने को ले कर देश भर में डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से अभियान चलाया जा रहा था. इस पर पिछले दो साल से विशेष अधिवक़्ता राबर्ट म्यूलर की ओर से जांच की जा रही थी. हालांकि राष्ट्रपति ट्रम्प बार-बार इस तरह की किसी भी साज़िश से इनकार करते आ रहे थे. ट्रम्प ने रिपोर्ट का सार उजागर होने के बाद रविवार को एक बार फिर इसे एक सोची समझी शरारतपूर्ण जांच बताया. उन्होंने कहा कि यह शर्म की बात है कि देश को इस तरह की प्रक्रिया से होकर गुज़रना पड़ा है.

इस जांच रिपोर्ट के बाद राॅबर्ट म्यूलर जांच का पटाक्षेप हो चुका है, लेेकिन इस दाैैैरान राष्ट्रपति के कुछ नज़दीकी सहायकों को हिरासत में लिया गया. बर्र ने यह भी कहा कि उनके पास रिपोर्ट में इस बात के भी पर्याप्त सबूत नहीं हैं कि राष्ट्रपति ने रिपोर्ट को अपने पक्ष में करने के लिए न्यायिक प्रक्रिया में किसी तरह का व्यवधान उत्पपन्न किया. उन्होंने कांग्रेस को लिखे पत्र में कहा है कि वह इस रिपोर्ट के कुछ अंशों को उजागर करना चाहेंगे, लेकिन कुछ अंश काे सार्वजनिक किया जाना उचित नहीं होगा.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *