Tuesday , May 21 2019
Loading...
Breaking News

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत की असली वजह चलेगा पता

वर्ष 2003 के मुंबई सीरियल बम धमाकों के दोषी  सज़ा-ए-मौत पाए मोहम्मद हनीफ सैयद की रविवार को अस्पताल में मौत हो गई. इस मामले में तीन लोगों को दोषी ठहराया गया था. वह नागपुर की सेंट्रल कारागार में बंद था. कारागार अधीक्षक रानी भोसले ने बताया कि सैयद की शनिवार शाम को आकस्मित तबीयत बिगड़ गई. इसके बाद उसे सरकार मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया, जहां डेढ़ घंटे बाद उसकी मौत हो गई. 

भोसले ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत की असली वजह का पता चल सकेगा. उसके रिश्तेदारों की मौजूदगी में सोमवार को पोस्टमार्टम कराया जाएगा. हालांकि संभावना जताई जा रही है कि दिल का दौरा पड़ने से उसकी मौत हुई. 23 अगस्त, 2003 को गेटवे ऑफ इंडिया  झावेरी मार्केट में दो बम धमाके हुए थे.

इन धमाकों में 52 लोग मारे गए थे  244 घायल हुए थे. मामले में सैयद, उसकी पत्नी फहमीदा  अशरत अंसारी को पोटा न्यायालय ने 2009 में दोषी ठहराते हुए सज़ा-ए-मौत सुनाई थी. बॉम्बे न्यायालय द्वारा सज़ा-ए-मौत बरकरार रखे जाने के बाद सैयद को 2012 में यरवदा कारागार से नागपुर सेंट्रल कारागार भेज दिया गया था.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *